Lyrics: – कविराज भूषण

इन्द्र जिमि जंभपर , वाडव सुअंभपर |
रावन सदंभपर , रघुकुल राज है || 1 ||
पौन बरिबाहपर , संभु रतिनाहपर |
ज्यो सहसबाहपर , राम द्विजराज है || 2 ||
दावा द्रुमदंडपर , चीता मृगझुंडपर |
भूषण वितुण्डपर , जैसे मृगराज है || 3 ||
तेजतम अंसपर , कन्हजिमि कंसपर |
तो म्लेंच्छ बंसपर , शेर सिवराज है || 4 ||

Featured Image:- YouTube.com