क्या आप जानते हैं? छत्रपति शिवाजी महाराज मध्यकालीन इतिहास महाराष्ट्र

हिन्दवी स्वराज्य का आदर्श : किन घटकों से इसका निर्माण हुआ

छत्रपति शिवाजी ने बहुत से प्रशासनिक और सैन्य सुधार किये, जिन्होंने मराठाओं को बाद के समय में दृढ़ रहने में बहुत सहायता की । ये सब रामचंद्र पन्त की लिखी पुस्तक, आज्ञापत्र में दिए गये हैं, इस व्यक्तित्व के बारे में हम बाद में चर्चा करेंगे । छत्रपति शिवाजी की सरकार में वो एक अमात्य या राजस्व अधिकारी थे । अष्टप्रधान में वे सबसे युवा थे और बाद में मराठा और महाराष्ट्र  की राजनीति में बहुत महत्ता को प्राप्त हुए । लेकिन उस समय छात्रपति शिवाजी ने बहुत से प्रमुख सुधार किये जो कि समय की परीक्षा पार करने में सफल रहे और उनकी अगली पीढ़ियों को लड़ने में सहायक हुए । सबसे पहले जो उन्होंने किया वो ये था कि वतनदारी प्रथा को समाप्त किया । प्रत्येक दुर्ग, उस समय तक प्रत्येक दुर्ग एक जागीरदारी था, वो एक पूरी तरह निर्मित दुर्ग और एक व्यक्ति जो उसको नियंत्रित करता था, प्रत्येक देशमुख, अपने आप में एक राजा था ।

उन्होंने इस भूमि आधारित अनुदान प्रथा को समाप्त किया और एक वृत्ति आधारित सेना का गठन किया । वृत्ति आधारित सैन्य, वे उनको वेतन देते थे जो कि उस समय भारत में सर्वाधिक था । सैन्य अधिकारी सर्वदा अपने समकक्ष नागरिक व्यवस्था संबंधी अधिकारियों से अधिक वृत्ति पाते थे  तो परिणामस्वरूप, वो इन सब विभिन्न लोगों को, इन सब वतनदारों को अपने सैन्य में ला सके और एक वृत्ति आधारित सैन्य का गठन किया जो कि अपने समय से कम से कम १५० – २०० वर्ष आगे का विचार था । और इसमें हम यह भी देखते हैं कि शिवाजी ने उस समय की प्रचलित व्यवस्था में, मुगल मनसबदारी व्यवस्था में एक दोष पहचाना । ये व्यवस्था दृढ़ थी, दृढ़ रूप से चल रही थी, इसने एक पूरा साम्राज्य खड़ा किया था, कश्मीर से लेकर कल्याण और नर्मदा तक ।

परन्तु शिवाजी ने देखा कि इस मनसबदारी व्यवस्था में एक दोष है । वो दोष ये है कि एक बहुत दृढ़ केंद्रीय व्यक्तित्व अपेक्षित है इन मनसबदारों को यथास्थान स्थिर रखने के लिये, साथ ही ये व्यवस्था श्वान श्वान के पीछे पड़ा रहे, ऎसी थी, प्रत्येक मनसबदार और ऊँची मनसबदारी के लिये यत्नशील था, उनके लिये और कोई प्रेरणा न थी । एक ५०० की मनसबदारी वाला व्यक्ति जाकर युद्ध लड़ता और बदले में एक सहस्र की मनसबदारी की अपेक्षा करता । मुगल साम्राज्य या मुगल पताका के लिये लड़ने की कोई भावना नहीं थी, लोग स्वयं के लिये लड़ते यही स्थिति थी, एक प्रतियोगिता में उतरना और पर्याप्त धन एवं सैन्य लेकर साम्राज्य का विस्तार करना ।

तो शिवाजी ने इस दोष को पहचाना और सबसे पहले वतनदारी प्रथा को समाप्त किया और दूसरा ये कि हिन्दवी स्वराज्य का पूरा सिद्धान्त प्रस्तुत किया । उन्होंने कहा कि हम एक आदर्श के लिये लड़ने जा रहे हैं, ये एक ऐसी बात थी जो पूरी तरह से भिन्न थी उस समय से जब लोग बस केवल राजा के लिये लड़ रहे थे । राजा मृत्यु को प्राप्त हुआ और सारा युद्धक्षेत्र १८० डिग्री परिवर्त्तित हो जाता, यही पानीपत के दूसरे युद्ध के समय हुआ । एक लक्ष्यहीन बाण हेमचन्द्र को लगा, वो अपने हाथी से गिरे और पूरा युद्धक्षेत्र चारों दिशाओं में भाग निकला । क्यूँ ? क्योंकि कोई आदर्श स्थापित नहीं था, ‘जिसकी लाठी उसकी भैंस’, यही आदर्श था । तो जैसे ही ये लाठी हेमचन्द्र के हाथ से छूटी, सारा युद्ध हारा गया ।

तो इस भाव को शिवाजी ने नियंत्रित किया हिन्दवी स्वराज्य का सिद्धान्त लाकर । कि आप एक निश्चित आदर्श के लिये लड़ रहे हैं एक निश्चित पताका के लिये लड़ रहे हैं, और ये राज्य मेरे बारे में नहीं है, ‘हे स्वराज्य व्हावे ही श्रींची इच्छा’, ये स्वराज्य परमेश्वर की इच्छा है, ये मेरी इच्छा नहीं है, ये छत्रपति शिवाजी का स्वराज्य नहीं है, ये परमेश्वर की इच्छा है जिसके लिये तुम लड़ रहे हो और यही आदर्श है जो अगले २७ वर्षों तक खड़ा रहा । तो ये उन्होंने वैचारिक स्तर पर किया|

Leave a Reply

You may also like

इस्लामी आक्रमण मध्यकालीन इतिहास

गुरु गोबिंद सिंह: योद्धा, संत, कवि व दार्शनिक – जिन्होंने भारत के सारे ग्रंथों का निचोड़ दिया | कपिल कपूर

post-image

गुरु गोविन्द सिंह जी के mention के बगैर आप इंडिया की history of ideas कंप्लीट नहीं कर सकते| गुरु गोविंद सिंह जी ने भागवत पुराण को ‘भाखा दियो बनाए’, जो उन्होंने कृष्णावतार लिखा वह उन्होंने पूरे भागवत पुराण को पंजाबी में भाखा में लिखा, रामअवतार लिखा, अकाल स्तुति लिखी, जितना ज्ञान भारत का था उसका जो latest retelling हुआ…retelling… वह सारा वह गुरु गोविंद सिंह जी ने किया| 4 बेटे मरवा दिए, father मरवा दिए, 40 की आयु में मर गए,इतने ग्रंथों की रचना की, इतना social reform किया और धर्म के लिए जान दे दिया, कुर्बानी कर दी| दो बच्चे छोटे- पांच आठ साल के जिंदा दीवार में चुनवा दिए गए और जब उनको खबर मिली तो उनकी आंखों में नमी आई तो किसी ने कहा गुरु जी अगर आप दुख बनाओगे तो…

Read More
क्या आप जानते हैं? प्राचीन इतिहास भारतीय बुद्धि भाषण के अंश

हिन्दू देवी-देवता और संस्कृत जापानी संस्कृति के अभिन्न अंग हैं – बिनोय के बहल – भारत का भित्तिचित्रण

post-image

हमने जापान में संयोग से इन दोनों वेणुगोपाल को देखा। वहाँ मुझे लगा कि आप यह जानने के लिए उत्सुक हो सकते हैं कि हिन्दू देवी-देवताओं की जापान में उतनी ही पूजा होती है जितनी कि भारत में। आपको वास्तव में यह जानकर आश्चर्य होगा कि यहां जापान में एकमात्र सरस्वती मां के सैकड़ों मंदिर हैं जिसमें 250 फुट ऊंचा मंदिर भी है और सरस्वती मां के मंदिर भारत में देखने को नही मिलते। लक्ष्मी माता की यहां पूजा होती है। बहुत सारे देवी-देवता हैं, इतने सारे शिव हैं, ब्रम्हा हैं, यहां तक की यमराज का मंदिर है।

वास्तिवकता में आपको ये जानकर भी आश्चर्य होगा कि हवन या होमा जिसको जापानी भाषा में “गोमा” कहते है, वो जापान के 1200 से अधिक मंदिरों में हर दिन संस्कृत मंत्रोच्चार द्वारा किया…

Read More
प्राचीन इतिहास भाषण के अंश

आज का वर्तमान ग्रीस अपनी पुरातन सभ्यता और संस्कृति को क्यों नहीं बचा सका?

post-image

ग्रीस जिसे हम यूनान के नाम से भी जानते हैं, 1900 ईसवी में अंततः ग्रीस का फिर से उदय हुआ। यदि हम पुरातन सभ्यताओं की याद करें तो ग्रीस और इजिप्ट का नाम भी याद आता है, परंतु ग्रीस के इतिहास पर नजर डालें तो सबसे पहले ग्रीस पर रोमन साम्राज्य का कब्जा हुआ था। परिणामस्वरूप ग्रीस ईसाई धर्म में परिवर्तित हुआ और अपनी सभ्यता संस्कृति खो बैठा।

रोमन राजा ने ग्रीस के धर्म के सभी ग्रीक देवताओं पर प्रतिबंध लगाया तथा ओलिंपिक खेलों को बंद करा दिया, क्योंकि ग्रीस ओलिंपिक पर बड़ा खर्च करता था। मंदिरों को तोड़ा गया, परम्परायें नष्ट होती चली गई और ग्रीस पूर्णतया ईसाई बन गया।

समय के साथ ग्रीस की पुरातन सभ्यता नष्ट होती चली गई। सवाल ये है कि ग्रीस पुनर्जीवित कैसे हुआ? 18वीं सदी में यूरोप ने ग्रीक ज्ञान का अवतरण किया ताकि अरब देशों के माध्यम से पुरातन यूनानी ज्ञान को प्राप्त…

Read More
इतिहास इस्लामी आक्रमण भारतीय इतिहास का पुनर्लेखन भाषण के अंश मध्यकालीन इतिहास

गुरु तेग बहादुर का धर्मार्थ प्राण त्यागने से पहले औरंगजेब के साथ संवाद

post-image

गुरुदेव बोले, “300 वर्ष पहले हमारे देश में औरंगजेब नाम का निर्दयी राजा था। उसने अपने भाई को मारा, पिता को बंदी बनाया और स्वयं राजा बन गया। उसके उपरांत उसने निश्चय किया कि वो भारत को इस्लामिक राष्ट्र बनाएगा।”
“क्यों गुरुदेव?”
“क्योंकि उसने सोचा कि यदि दूसरे देशों को इस्लामिक राष्ट्र बनाया जा सकता है, तो भारत को क्यों नहीं जहां पर उस जैसा मुसलमान राजा राज करता है। उसने हिंदुओं पर भारी जजिया टैक्स लगाया और हिंदुओं को अपमानित परिस्थितियों में रहने पर विवश किया, अतः वो हिन्दू धर्म का त्याग कर दें। औरंगजेब ने अपने सैनिकों को प्रत्येक दिन ढेर जनेऊ लाने को कहा और उस ढेर जनेऊ को रोज तराजू में तुलवाता था। ये हिंदुओं का जनेऊ होता था जो या तो इस्लाम स्वीकार कर लेते थे या मार दिए जाते थे। बहुत हिंदुओं ने डर कर इस्लाम स्वीकार किया और बहुत…

Read More
इस्लामी आक्रमण क्या आप जानते हैं? भाषण के अंश मध्यकालीन इतिहास हिन्दू मन्दिरों का विध्वंस

भारत के उत्तरी भाग में बड़े मंदिर क्यों नहीं हैं, जैसे भारत के दक्षिणी भाग में हैं?

post-image

शीर्ष सिद्धांतकारों में से एक, शॉन लॉन्डर्स ने कहा कि स्मृति हमें बांधती है और हमें परिभाषित करती है। यह धर्म का एक आवश्यक आयाम है और मिलन कुंदेरा ने कहा है कि सत्ता के खिलाफ मनुष्य का संघर्ष वैसे ही है जैसे विस्मृति के खिलाफ स्मृति का संघर्ष। यह बहुत शक्तिशाली बात है। यह एक ऐसी स्मृति है जो हमें विस्मृति से रोकती है। स्मृति मरती नहीं है। स्मृति की यही सुंदरता है। मैं शायद इसके बारे में सीधे शब्दों में अपनी बच्चों से बात भी नहीं कर सकता, लेकिन मुझे पता है कि मेरी संतानें समझ जाएंगी कि मैं क्या संदेश देना चाहता था और वे इसपर चुप्पी साध लेंगे। स्मृति मौन के सहारे आगे बढती है। मुझे लगता है कि आप सभी इस तस्वीर को जानते हैं। है न? ठीक है। मेरे पास इसके बारे में एक कहानी है जिससे शायद पहली बार मुझे समझ में…

Read More
इस्लामी आक्रमण काश्मीर भारतीय इतिहास का पुनर्लेखन भाषण के अंश मध्यकालीन इतिहास

एक कश्मीरी शरणार्थी शिविर का नाम ‘औरंगज़ेब का स्वप्न’ क्यों रखा गया? – मनोवैज्ञानिक आघात का ऐतिहासिक संदर्भ पढ़ें

post-image

मैं एक कहानी आपसे साझा करूंगा, क्योंकि मुझे लगता है कि कहानी लोगों को यह बताने का सबसे अच्छा तरीका है कि मैं इस तक कैसे पहुंचा। किसी को पता है कि यह क्या है? यह कश्मीरी शरणार्थी शिविर है। मैं वहां काम कर रहा था, और मेरी पत्नी भी यहाँ है, हम दोनों लोगों के आघात पर काम करने के लिए शिविरों में जाते थे और ऐसे शिविर कई सारे थे। हमने अपना काम बांट लिया था। हम शिविर में जाते थे, उन लक्षणों पर चर्चा करते थे जिन्हें लोग महसूस करते थे। उनमें से ज्यादातर सो नहीं पाते थे। उनमें से अधिकांश को बुरे स्वप्न आते थे, उनमें से अधिकांश में ऐसे कई लक्षण थे। हम इस पर चर्चा करते थे, उन्हें व्यायाम, बातचीत द्वारा फिर से ठीक करने और फिर वापस आने में मदद करते थे।

बाहर आते समय एक दिन, एक बूढ़ा कश्मीरी आदमी, एक छोटा…

Read More
अखंड भारत क्या आप जानते हैं? प्राचीन इतिहास भाषण के अंश

भारत का नाम इंडिया कैसे पड़ा?

post-image

‘इंडिया’ शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई? शायद यह आपको ज्ञात हो| सबसे पहले ‘सिंधु’ शब्द से ‘हिंदू’ बना। फिर जैसे स्पेनिश में ‘ह’ अक्षर उच्चारण में गौण हो जाता है उसी प्रकार ‘ह’ का उच्चारण लुप्त होकर ‘इंदु’ बना। जब मैं बार्सिलोना में था, मैंने एक रेस्तरां का नाम ‘लो कॉमिडा हिंदू’ पाया। पर इसका उच्चारण वे ‘ह’ को गौण रखकर ‘इंदु’ ही कर रहे थे|  आप हजारों साल पहले भी इस प्रकार का संदर्भ प्राप्त हो सकता है| अलग अलग देश इसे ‘इंड’, ‘इंडिका’, ‘इंडिया’ इत्यादि जैसे नामों से पुकारते हैं|

Read More
प्राचीन इतिहास प्राचीन भारतीय शिक्षा भारत की चर्चा

भारतीय गुरुकुल शिक्षा प्रणाली — मेहुलभाई आचार्य का व्याख्यान

post-image

भारतीय परंपरा में मनुष्य जीवन के सबसे महत्वपूर्ण मूल्यों में से शिक्षा को सबसे उच्च का स्थान दिया गया है| पुरातन काल से भारतवर्ष समस्त विश्व के लिए ज्ञान का स्रोत रहा है और भारत के ज्ञान का सर्वप्रथम स्रोत हैं हमारे वेद| एक सुसंस्कृत व्यष्टि को समष्टि की नींव मानते हुए एक सुदृढ़ तथा विकसित समाज के निर्माण हेतु शिक्षा की अभूतपूर्व परिकल्पना भारत के ऋषियों, मनीषियों एवं गुरुओं ने ही की थी| इसी चिंतन ने जन्म दिया भारतीय गुरुकुल शिक्षा प्रणाली को|

क्या थी गुरुकुल शिक्षा प्रणाली? कितनी प्रकार की पद्धतियाँ होती थीं इस प्रणाली में? कहाँ से आरम्भ होती थी शिक्षा? क्या शिक्षा केवल विषय-ज्ञान तक सीमित थी या इसका कोई अलौकिक अभिप्राय भी था? जानिए श्री मेहुल आचार्य के व्याख्यान में|

श्री मेहुल आचार्य जी हमें बताते हैं की मानव व्यक्तित्व के संतुलित व बहुमुखी विकास के लिए तथा विकसित समाज…

Read More
%d bloggers like this: