शुक्रवार, अप्रैल 10, 2020
Home > श्रुति और स्मृति ग्रन्थ > उपनिषत् > हिन्दू धर्म के अनुसार मानव व्यक्तित्व की पांच क्यारियाँ

हिन्दू धर्म के अनुसार मानव व्यक्तित्व की पांच क्यारियाँ

आजकल, लगभद हमारे सारी, हमारा सारा ज्ञान आधुनिक विज्ञान के माध्यम से ही आता हैं I हम कहतें तो हैं कि हमारा विशेष प्राकृतिक शारीर हैं लेकिन अपने मन का एक स्वाधीन अस्तित्व होने को नकारतें है I वे कहतें हैं कि दिमागी गतिविधि ही सोचने-समझाने की शक्ति हैं, हिन्दू धर्म में हम मन को इस प्रकार से नहीं देखतें I हमारे रिशिओं ने, हमारे अतीत के वैज्ञानिकों ने हमारे अस्तित्व को, मानव शारीर को इस दृष्टिकोणसे नहीं देखाI यहाँ तक कि आयुर्वेद ने भी इसे नहीं माना हैं I हम जिसको स्वीकार करतें हैं वोह हैं मानव व्यक्तित्व की पांच क्यारियाँ I मैं मात्र एक प्राकृतिक शरीर ही नहीं हूँ I मेरा एक महत्त्वपूर्ण प्राणिक शरीर भी हैं, मेरा अपना मस्तिष्क हैं, मानसा, मनोमयाकोषा और एक विग्ननामयाकोषा, और एक अनंदामयाकोषा बुद्धि का आवरण, परमानन्द का आवरण I

यह अनूवाद, यह सही अर्थ नहीं सूचित करता लेकिन मेरा थोडा साथ दीजिये, जो महत्त्वपूर्ण हैं हमारे दिनचर्या के लिए वोह हैं यह तीन आवरण – अन्नामयाकोषा, शारीरिक जीव, अति महत्त्वपूर्ण प्रनामयाकोषा, ऊर्जा की परत, प्राणशक्ति, जिसे हम श्वास लेना कहतें हैं, वह प्राण हैं I हमारे पास श्वसन से उत्तम पारिभाषिक पद हैं I हम सिर्फ वायु ही नहीं लेतें I वायु एक मृत शरीर में भी प्रवेश करता हैं, मगर वोह जीवित नहीं माना जाता, सही हैं न ? और फिर उस वायु में, उस वायु कि पीछे कुछ हैं, जिसके कारन कोई जीवित माना जाता हैं, कोई मृत, हैं ना ? तो उसे ही प्रानाधारण ऊर्जा कहतें हैं, वही प्राण हैं, हैं ना ? तो यह था प्राणमय कोष, और फिर हैं मनोमया कोष, चित, विचार, मति, और अन्य समस्त प्रक्रिया I

Leave a Reply

%d bloggers like this:

Sarayu trust is now on Telegram.
#SangamTalks Updates, Videos and more.