बुधवार, अगस्त 21, 2019
Home > अयोध्या राम मन्दिर > अयोध्या राम जन्मभूमि: कण कण में रची बसी स्मृति का विनाश और इसका पुनर्स्थापना आवश्यक क्यों – मनोवैज्ञानिक विश्लेषण

अयोध्या राम जन्मभूमि: कण कण में रची बसी स्मृति का विनाश और इसका पुनर्स्थापना आवश्यक क्यों – मनोवैज्ञानिक विश्लेषण

हम सभी एडॉल्फ ऐशमान के बारे में जानते हैं। इसे 20 वीं शताब्दी का सबसे बड़ा परीक्षण कहा गया है। इसका नेतृत्व गिदोन हॉसनर ने किया था जो उस समय विश्व प्रसिद्ध वकील थे।

इसके अतिरिक्त, एकमात्र न्यूर्नबर्ग परीक्षण, जहां नाजी लोगों पर मुकदमा चलाया गया, उसको एक बड़े परीक्षण के रूप में देखा गया। परन्तु इसमें शामिल विषयों के कारण इसे 20 वीं शताब्दी का सबसे बड़ा परीक्षण माना जाता है। उन्होंने पाया कि दोष की स्थापना, एडॉल्फ ऐशमान का अपराध सिद्ध करना, कोई समस्या नहीं है। उसके खिलाफ पर्याप्त प्रमाण, पर्याप्त साक्ष्य और पर्याप्त विवरण उपलब्ध है। परन्तु यहूदी समुदाय चिंतित अनुभव करने लगा। उन्होंने अनुभव किया कि यदि उनके पास दस्तावेजों, संख्या और आंकड़ों के आधार पर परीक्षण है, तो यह मुकदमा समाप्त हो जाएगा। यह मानवता के लिए एक बड़ा असंतोष होगा। उन्होंने महसूस किया कि यह परीक्षण संख्या या विवरण या आंकड़ों से अधिक बड़ा है। यह परीक्षण उन लोगों की एक विचारधारा पर आधारित है जो मानते थे कि यहूदियों को उनके विध्वंस पर जीने का कोई अधिकार नहीं था। इसलिए, परीक्षण उस पर होना चाहिए, एक श्रेणी कुल प्रजाति या रेस का सर्वनाश, तथ्यों आंकड़ों या विवरण पर नहीं। यहूदियों को अपनी पहचान वापस दिलाने के लिए यह परीक्षण आवश्यक है।

मैंने ये पढ़ा और बार बार पढ़ा क्योंकि ये मेरे शोध का भाग था और मुझे अपनी मानसिक क्षति को समझना भी था। मैंने बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि को भी पढ़ा। मुझे बहुत समानता लगी। राम जन्मभूमि, मुझे ज्ञात हुआ कि ये परीक्षण इस बात पर बन गया कि राम का वहां जन्म हुआ या नहीं। क्षमाप्रार्थी, मुझे श्री राम कहना चाहिए। मुझे श्री राम का स्थान बोलना चाहिए। यह एक मंदिर या राम के जन्मस्थान के बारे में है, लेकिन यह हिंदुओं की पहचान को पुनः प्राप्त करने के विषय में नहीं है। मुझे जो दिखा, यह विवाद श्री राम की जन्मस्थली है या नहीं, चाहे वह एक मंदिर था, लेकिन जब मंदिर को खंडित किया गया था, तब जो पहचान खो गई थी उस विषय पर है। यह पवित्र स्थान है। यह हिंदुओं की पहचान से जुड़ा हुआ है। और इसके लिए वो लड़ रहे हैं। इसलिए मेरे विचार से, यह उन लोगों के लिए महत्वपूर्ण है जो समझने की कोशिश कर रहे हैं कि यह सिर्फ मंदिर का ढांचा नहीं है या श्रीराम वहां पैदा हुए थे, किन्तु यह हिंदुओं के बारे में है कि जो अपनी पहचान को पुनः प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हैं। क्या यह सही है कि इस मंदिर को मिला कर मंदिर का विध्वंस एक सभ्यता को नष्ट करना था, जीवन के मार्ग और लोगों के विश्वास को नष्ट करना था जिसका निर्माण हजारों सालों में हुआ था? मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूं क्योंकि अभी यह दिखाने के लिए पर्याप्त साक्ष्य हैं कि नीचे एक मंदिर था या अन्य मंदिर थे जहां यह बनाया गया था। लक्ष्य यह नहीं था कि मात्र एक मंदिर को नष्ट करना हो। नहीं। हां, एक मंदिर नष्ट हुआ था, एक भौतिक संरचना। किन्तु यह एक सभ्यता का विनाश भी था, जीवन के एक मार्ग का भी। पवित्र स्थानों में स्मृति कण कण में होती है। जब उनका पुनर्निर्माण होता है, तो वे अपने लोगों को स्मृति को पुनर्स्थापित करते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: