गुरूवार, सितम्बर 19, 2019
Home > भाषण के अंश > जर्मनी के लोग भारतीय भाषाओं के सम्मोहित करने वाले चरित्र से घृणा क्यों करते हैं?

जर्मनी के लोग भारतीय भाषाओं के सम्मोहित करने वाले चरित्र से घृणा क्यों करते हैं?

आज स्मृति महत्वपूर्ण विषय क्यों बन गई है? स्मृति अध्ययन का विषय बन जाती है जब समाज में एक महान परिवर्तन होता है और घटनाओं का प्रवाह टूट जाता है। 9/11 यूएसए की तरह, इसने समाज को तोड़ दिया और क्योंकि इसने समाज को तोड़ा, अचानक हमारा ध्यान स्मृति की ओर केंद्रित किया। इसलिए, आप कौन हैं, हम क्यों हैं, इसके बारे में जानने का महत्व सामने आता है क्योंकि समाज में अनबन और चीरफाड़ है और मेरा मानना ​​है कि अभी हमारे समाज में अनबन और चीरफाड़ चल रही है, एक बड़ी चीरफाड़। क्यों? मुझे नहीं पता, लेकिन यही कारण है कि हम अपनी स्मृति में अभी बहुत पीछे जा रहे हैं। यदि हम अध्ययन करते हैं, तो सभी देशों के पास एक सामूहिक स्मृति है। जर्मनी की सामूहिक स्मृति है जो बहुत मजबूत है। मेरा मतलब है कि मैं इसे केवल उदाहरणों के माध्यम से समझा सकता हूं।
मैं एक बार जर्मनी में एक कार्यशाला ले रहा था लेकिन यहां कार्यशाला का मतलब था जहाँ आप मनोवैज्ञानिक मुद्दों से निपट रहे हैं और एक युवा जर्मन लड़की थी जो दर्शकों में थी और जो अन्तर्मुखी लग रही थी और मैंने उसे कुछ अभ्यास दिया था। वह नहीं कर रही थी। मैं अपने जर्मन सहयोगी के साथ उसके पास चला गया, मैंने उससे कहा, “मुझे प्रतीत हो रहा है कि शायद आपको यह अभ्यास मुश्किल लग रहा है। मैं दूर देश से आया हूं। मुझे आपकी संस्कृति की अच्छी तरह से समझ नहीं है। इसलिए, यदि मैं कुछ कह रहा हूं और आपको समझ नहीं आ रहा है, तो क्या हम बात कर सकते हैं?” और मैंने देखा कि वह और भी पीछे हट गई! वह लगभग इस तरह बन गई। तो, मैंने कहा, “क्या मैंने कुछ गलत कहा है?” इसलिए, मेरे जर्मन सहयोगी डॉ पेट्री ने मुझे रोक दिया। उन्होंने उसे जर्मन भाषा में कुछ बताया और मुझे अलग ले गए। उन्होंने कहा और मुझे उनका हर शब्द याद है। वो बोलीं, “रजत, जब आपने बात की तो आपने उसे बहुत सम्मोहित कर लिया। आपकी भाषा बहुत सम्मोहित करने वाली थी। क्या आप महसूस करते हैं कि आपकी, भारतीयों की भाषा स्वर परिवर्तन से भरी हुई होती है? आपके स्वर ऊपर और नीचे जाते हैं।” मैंने बोला, “हां, हम ऐसा करते हैं।” वो बोलीं, “क्या आपने देखा है कि हम जर्मन कैसे बात करते हैं?” मैंने कहा, “अब जब आप इसे कहते हैं, तो आप जर्मन सीधे बात करते हैं। एक स्वर, एक स्तर जैसे आप 200 किमी/घंटा की गति से मर्सिडीज पर अपने राजमार्गों में से एक में जा रहे हैं। कोई स्वर परिवर्तन नहीं, कुछ नहीं।” वह कहती है, “हाँ, जर्मनी में यदि आप स्वर परिवर्तन के साथ सम्मोहन भरी भाषा में बात करते हैं तो हम पीछे हट जाते हैं। हम उस व्यक्ति पर भरोसा नहीं करते हैं।” तो, मैंने कहा, “ठीक है, यह मेरे लिए एक रहस्योद्घाटन है लेकिन क्यों?” वह कहती है, “आप जानते हैं कि हिटलर ने हमारे साथ क्या किया? हिटलर की आवाज़ सम्मोहित करने वाली और स्वर परिवर्तन भरी थी। तब से हम उन लोगों पर भरोसा नहीं करते हैं जो संयमित तरीके से या सम्मोहित तरीके से बात करते हैं। इसलिए दोबारा ऐसे बात न करें।”
इसके बाद में मैंने जर्मनी में कई कार्यशालाएँ कीं। मैं हमेशा एक स्वर में, एक स्तर पर बात करता हूं और इससे ऊपर नहीं जाता हूं और मैं बहुत सफल हूं। मेरा विश्वास कीजिये, जर्मन लोग कहते हैं, “बहुत अच्छी कार्यशाला! हमें बहुत आनंद आया। आपका बहुत बहुत धन्यवाद।” मैं कहता हूं, “हां, यह सही है”। तो, आप एक व्यक्ति को देखते हैं, 70 साल बाद भी, इससे पहले भी, वे कहते हैं कि ‘हमारी संस्कृति में हम किसी को भी लाभ लेने की अनुमति नहीं देते हैं। हमने निर्णय लिया है, हमने किसी को भी इसका लाभ नहीं उठाने दिया और इसीलिए हम पसंद करते हैं कि हम इस तरह से रहें।’

Leave a Reply

%d bloggers like this: