भाषण के अंश वीर सावरकर स्वतन्त्रता आन्दोलन

सावरकर का आरम्भिक जीवन और स्वतंत्रता संग्राम का भुला दिया गया पहलु

Translation Credit: Mahesh Srimali.

स्वतंत्रता के समानांतर संघर्ष की इस पूरी धारा में, अगर हम वास्तव में भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के पूरे कथा को पलट कर देखें और इसे क्रांतिकारी या सशस्त्र संघर्ष के दृष्टिकोण से देखें, तो एक पूरी तरह से अलग तस्वीर उभरती है, जहाँ आप विभिन्न नायकों को देखेंगे। जिन्हें आप नरमपंथियों कहते हैं, उन्हें निष्ठावान माना जाता था, जिन्हें आप अतिवादी कहते हैं, शायद राष्ट्रवादी बन जाएँ।

आप जानते ही हैं, इतिहास उस समय, एक बहुत ही अलग तरह  से करवट ले रहा था। 1857 से 1946 के सामानांतर आंदोलन के एकदम मध्य के समय में सावरकर का समय आया। और वे बाल गंगाधर तिलक के एक समर्थक के रूप में उभरे।

सावरकर एक, चितपावन ब्राह्मण घराने में पैदा हुए थे। महाराष्ट्र के नासिक जिले के एक छोटे से गाँव भागुर में 1883 की 28 मई के दिन उनका जन्म हुआ था। वह तीन भाईओं में से दुसरे नंबर पर थे – बड़े भाई गणेश राव, छोटा भाई नारायण राव और एक बहन मैना। बॉम्बे के गवर्नर सर रिचर्ड टेम्पल ने तत्कालीन वायसराय लॉर्ड लिटन को, पूरे चितपावन ब्राह्मण समुदाय के बारे में बहुत ही दिलचस्प पत्र लिखा। आम तौर पर यह माना जाता है कि अंग्रेजों ने मुगलों से जीतकर भारत पर अधिकार लिया था, लेकिन वास्तव में मराठों से देश को  लिया गया है और यह इसलिए क्योंकि वास्तविक तौर पर उस समय देश का विशाल हिस्सा मराठा के अधीन था।  1818 के युद्ध में मराठा को पराजित करके भारत पर अधिकार कर लिया गया था। और मराठा, पेशवा, चितपावन ब्राह्मण समुदाय के परिवार से ही हैं। लार्ड टेम्पल ने कहा कि, “हम उनके लिए कुछ भी करें, हम उन्हें कितनी शिक्षा दें, हम उन्हें कितनी भी सुविधाएं दें। वे सिविल सेवा का हिस्सा हैं, वे विभिन्न सरकारी विभागों का हिस्सा हैं, लेकिन फिर भी हमारे लिए उनकी नाराजगी खत्म नहीं होगी। वे एक  उग्रवादी प्रकार के ही रहेंगे, आप जानते हैं, कि वे हमारे लिए अपनी घृणा कभी नहीं छोड़ेंगे”।

उनका यह कथन इस तथ्य से पैदा हुआ था कि, महाराष्ट्र में उस समय के अधिकांश महान सुधारक शिक्षाविद्, वकील, विचारक, – गोपाल कृष्ण गोखले से लेकर बाल गंगाधर तिलक तक, विष्णुश्री चिपलुनकर से लेकर गणेश अगरकर तक और निश्चित रूप से सावरकर भी – सभी इसी  समुदाय से थे। वह छोटा सा घर जहाँ सावरकर के जन्म हुआ तथा बचपन बीता, वहीँ उन्होंने वास्तव में जाति व्यवस्था को खत्म कर दिया था। उच्च जाति का सवर्ण ब्राह्मण होने के बावजूद, वह हमेशा अपने दोस्तों के साथ घुलना-मिलना पसंद करता था, जो सभी निचली जातियों से थे और वह, उनके साथ भोजन भी करते थे और उनके साथ खेला भी करते थे। वह अपनी उम्र से परे एक बेहद उत्सुक पाठक थे। सभी समाचार पत्रों और पुस्तकों को पढ़ना उन्हें बेहद रुचिकर था, साथ ही वे सबके साथ उसकी चर्चा भी करते थे।

बचपन से ही किसी के साथ प्रतिस्पर्धा में रहने के बजाय सामुदायिक जीवन, सामुदायिक समृद्धि  उनकी विशेषता थी। जब वे आठ साल के थे तब उनमें कविता लेखन कि रूचि भी उत्पन्न हुई थी। जब वह छह साल के थे, उन्होंने अपनी मां राधा बाई को हैजा के कारण खो दिया था। ऐसे में उनके पिता दामोदर पंत पर चारों बच्चों की देखभाल कि जिम्मेवारी आ गयी।

अब इसी समय महाराष्ट्र में प्लेग का यह कहर छाया, जिसने राज्य के विभिन्न हिस्सों को पूरी तरह से तबाह कर दिया। महामारी को वास्तव में नियंत्रित करने के लिए ब्रिटिश सरकार ने बहुत ही दमनकारी उपाय किये। जिन परिवारों में प्लेग के रोगियों का पता चला, उन्हें पुलिस ने घरों से निकाल दिया, महिलाओं को परेशान किया, पूजा घर तोड़ दिए और उन लोगो को शहर से बहुत दूर के किसी शिविर ने प्रस्थापित कर दिया। इस कारण, अगर कोई मृत चूहा घर में कहीं भी पाया जाता था। तो यह बात छुपा कर रखी जाती थी, जब तक कि वास्तव में उस परिवार में प्लेग के कारण कोई मृत्यु नहीं हो जाती और बाहर के लोग यह जान नहीं जाते की इस परिवार में प्लेग के रोगी हैं। यह प्लेग निरोधक उपाय इतने दमनकारी थे कि इसने महाराष्ट्र में रहने वाले लोगों के बीच बहुत अधिक आतंक पैदा कर दिया। तीन भाइयों ने अंग्रेजों के इस कृत्य का बदला लेने का निर्णय लिया और वे तीन भाई थे, चापेकर ब्रदर्स – दामोदर हरि चापेकर, बाला कृष्णारी चापेकर और उनके छोटे भाई वासुदेव हरि चापेकर। इन तीनो ने फैसला किया, कि वे बंदूक उठाएंगे और वास्तव में पुणे के प्लेग अधिकारी की हत्या करेंगे, जिसका नाम वाल्टर रैंड और उनके लेफ्टिनेंट चार्ल्स एएर्स्ट था। 

इस हत्या ने सम्पूर्ण मुंबई को सदमे में भेज दिया। लोगों को लगा की लॉर्ड टेम्प्ल का शब्द सही है। वे तीनो भाई चितपावन समुदाय से भी सम्बंधित थे। वे कोई उग्रवादी नहीं थे, वे वास्तव में अंग्रेजी में शिक्षित थे और इस तथ्य के बावजूद, उन्होंने हथियार उठाया और खुद ब्रिटिश अधिकारियों में से एक को मारा। इस घटना ने महाराष्ट्रीय समाज में दो तरह की प्रतिक्रियाओं को जन्म दिया – एक ओर अंग्रेजों ने इससे घृणित कार्य घोषित किया, वहीँ दूसरी ओर महाराष्ट्र के अखबारों, जिसमें केसरी भी सम्मिलित था, ने इसकी कड़ी निंदा करते हुए इसे मूर्खतापूर्ण कार्य बताया।

युवा सावरकर तब लगभग 14 साल के थे और चापेकर भाइयों के बारे में जो वीर गाथाएँ चल रही थीं, उनसे बहुत व्याकुल व प्रभावित हो गए। जिस तरह से होठों पर एक मुस्कुराहट और गीता के श्लोकों के साथ उन्हें फांसी के लिए ले जाया गया था, सावरकर ने भी फैसला किया कि वह भी अपने परिवार के देवता, अष्ट भुजा भवानी, (8 हाथ वाली देवी भवानी) की प्रतिमा के पास जाएंगे। यह प्रतिमा अभी भी भागुर में खंडोबा के मंदिर में स्थित है। उन्होंने माँ के सामने मराठी में एक व्रत लिया – “मैं अपनी बंदूक उठाऊंगा और अपने अंत तक लड़ूंगा, अपने दुश्मन को मारूंगा जब तक अंतिम दुश्मन बचा रहेगा। 14 वर्ष की उम्र में किसी बालक द्वारा किया गया यह कृत्य बहुत ही बचकाना लग रहा था।

लेकिन इतिहास यह नहीं जानता था, कि आने वाली पीढ़ी इस एक रात के व्रत के प्रतिक्रिया का सामना करने वाली थी, जो सावरकर ने उस दिन लिया था।


Leave a Reply

You may also like

इस्लामी आक्रमण मध्यकालीन इतिहास

गुरु गोबिंद सिंह: योद्धा, संत, कवि व दार्शनिक – जिन्होंने भारत के सारे ग्रंथों का निचोड़ दिया | कपिल कपूर

post-image

गुरु गोविन्द सिंह जी के mention के बगैर आप इंडिया की history of ideas कंप्लीट नहीं कर सकते| गुरु गोविंद सिंह जी ने भागवत पुराण को ‘भाखा दियो बनाए’, जो उन्होंने कृष्णावतार लिखा वह उन्होंने पूरे भागवत पुराण को पंजाबी में भाखा में लिखा, रामअवतार लिखा, अकाल स्तुति लिखी, जितना ज्ञान भारत का था उसका जो latest retelling हुआ…retelling… वह सारा वह गुरु गोविंद सिंह जी ने किया| 4 बेटे मरवा दिए, father मरवा दिए, 40 की आयु में मर गए,इतने ग्रंथों की रचना की, इतना social reform किया और धर्म के लिए जान दे दिया, कुर्बानी कर दी| दो बच्चे छोटे- पांच आठ साल के जिंदा दीवार में चुनवा दिए गए और जब उनको खबर मिली तो उनकी आंखों में नमी आई तो किसी ने कहा गुरु जी अगर आप दुख बनाओगे तो…

Read More
क्या आप जानते हैं? प्राचीन इतिहास भारतीय बुद्धि भाषण के अंश

हिन्दू देवी-देवता और संस्कृत जापानी संस्कृति के अभिन्न अंग हैं – बिनोय के बहल – भारत का भित्तिचित्रण

post-image

हमने जापान में संयोग से इन दोनों वेणुगोपाल को देखा। वहाँ मुझे लगा कि आप यह जानने के लिए उत्सुक हो सकते हैं कि हिन्दू देवी-देवताओं की जापान में उतनी ही पूजा होती है जितनी कि भारत में। आपको वास्तव में यह जानकर आश्चर्य होगा कि यहां जापान में एकमात्र सरस्वती मां के सैकड़ों मंदिर हैं जिसमें 250 फुट ऊंचा मंदिर भी है और सरस्वती मां के मंदिर भारत में देखने को नही मिलते। लक्ष्मी माता की यहां पूजा होती है। बहुत सारे देवी-देवता हैं, इतने सारे शिव हैं, ब्रम्हा हैं, यहां तक की यमराज का मंदिर है।

वास्तिवकता में आपको ये जानकर भी आश्चर्य होगा कि हवन या होमा जिसको जापानी भाषा में “गोमा” कहते है, वो जापान के 1200 से अधिक मंदिरों में हर दिन संस्कृत मंत्रोच्चार द्वारा किया…

Read More
प्राचीन इतिहास भाषण के अंश

आज का वर्तमान ग्रीस अपनी पुरातन सभ्यता और संस्कृति को क्यों नहीं बचा सका?

post-image

ग्रीस जिसे हम यूनान के नाम से भी जानते हैं, 1900 ईसवी में अंततः ग्रीस का फिर से उदय हुआ। यदि हम पुरातन सभ्यताओं की याद करें तो ग्रीस और इजिप्ट का नाम भी याद आता है, परंतु ग्रीस के इतिहास पर नजर डालें तो सबसे पहले ग्रीस पर रोमन साम्राज्य का कब्जा हुआ था। परिणामस्वरूप ग्रीस ईसाई धर्म में परिवर्तित हुआ और अपनी सभ्यता संस्कृति खो बैठा।

रोमन राजा ने ग्रीस के धर्म के सभी ग्रीक देवताओं पर प्रतिबंध लगाया तथा ओलिंपिक खेलों को बंद करा दिया, क्योंकि ग्रीस ओलिंपिक पर बड़ा खर्च करता था। मंदिरों को तोड़ा गया, परम्परायें नष्ट होती चली गई और ग्रीस पूर्णतया ईसाई बन गया।

समय के साथ ग्रीस की पुरातन सभ्यता नष्ट होती चली गई। सवाल ये है कि ग्रीस पुनर्जीवित कैसे हुआ? 18वीं सदी में यूरोप ने ग्रीक ज्ञान का अवतरण किया ताकि अरब देशों के माध्यम से पुरातन यूनानी ज्ञान को प्राप्त…

Read More
इतिहास इस्लामी आक्रमण भारतीय इतिहास का पुनर्लेखन भाषण के अंश मध्यकालीन इतिहास

गुरु तेग बहादुर का धर्मार्थ प्राण त्यागने से पहले औरंगजेब के साथ संवाद

post-image

गुरुदेव बोले, “300 वर्ष पहले हमारे देश में औरंगजेब नाम का निर्दयी राजा था। उसने अपने भाई को मारा, पिता को बंदी बनाया और स्वयं राजा बन गया। उसके उपरांत उसने निश्चय किया कि वो भारत को इस्लामिक राष्ट्र बनाएगा।”
“क्यों गुरुदेव?”
“क्योंकि उसने सोचा कि यदि दूसरे देशों को इस्लामिक राष्ट्र बनाया जा सकता है, तो भारत को क्यों नहीं जहां पर उस जैसा मुसलमान राजा राज करता है। उसने हिंदुओं पर भारी जजिया टैक्स लगाया और हिंदुओं को अपमानित परिस्थितियों में रहने पर विवश किया, अतः वो हिन्दू धर्म का त्याग कर दें। औरंगजेब ने अपने सैनिकों को प्रत्येक दिन ढेर जनेऊ लाने को कहा और उस ढेर जनेऊ को रोज तराजू में तुलवाता था। ये हिंदुओं का जनेऊ होता था जो या तो इस्लाम स्वीकार कर लेते थे या मार दिए जाते थे। बहुत हिंदुओं ने डर कर इस्लाम स्वीकार किया और बहुत…

Read More
इस्लामी आक्रमण क्या आप जानते हैं? भाषण के अंश मध्यकालीन इतिहास हिन्दू मन्दिरों का विध्वंस

भारत के उत्तरी भाग में बड़े मंदिर क्यों नहीं हैं, जैसे भारत के दक्षिणी भाग में हैं?

post-image

शीर्ष सिद्धांतकारों में से एक, शॉन लॉन्डर्स ने कहा कि स्मृति हमें बांधती है और हमें परिभाषित करती है। यह धर्म का एक आवश्यक आयाम है और मिलन कुंदेरा ने कहा है कि सत्ता के खिलाफ मनुष्य का संघर्ष वैसे ही है जैसे विस्मृति के खिलाफ स्मृति का संघर्ष। यह बहुत शक्तिशाली बात है। यह एक ऐसी स्मृति है जो हमें विस्मृति से रोकती है। स्मृति मरती नहीं है। स्मृति की यही सुंदरता है। मैं शायद इसके बारे में सीधे शब्दों में अपनी बच्चों से बात भी नहीं कर सकता, लेकिन मुझे पता है कि मेरी संतानें समझ जाएंगी कि मैं क्या संदेश देना चाहता था और वे इसपर चुप्पी साध लेंगे। स्मृति मौन के सहारे आगे बढती है। मुझे लगता है कि आप सभी इस तस्वीर को जानते हैं। है न? ठीक है। मेरे पास इसके बारे में एक कहानी है जिससे शायद पहली बार मुझे समझ में…

Read More
इस्लामी आक्रमण काश्मीर भारतीय इतिहास का पुनर्लेखन भाषण के अंश मध्यकालीन इतिहास

एक कश्मीरी शरणार्थी शिविर का नाम ‘औरंगज़ेब का स्वप्न’ क्यों रखा गया? – मनोवैज्ञानिक आघात का ऐतिहासिक संदर्भ पढ़ें

post-image

मैं एक कहानी आपसे साझा करूंगा, क्योंकि मुझे लगता है कि कहानी लोगों को यह बताने का सबसे अच्छा तरीका है कि मैं इस तक कैसे पहुंचा। किसी को पता है कि यह क्या है? यह कश्मीरी शरणार्थी शिविर है। मैं वहां काम कर रहा था, और मेरी पत्नी भी यहाँ है, हम दोनों लोगों के आघात पर काम करने के लिए शिविरों में जाते थे और ऐसे शिविर कई सारे थे। हमने अपना काम बांट लिया था। हम शिविर में जाते थे, उन लक्षणों पर चर्चा करते थे जिन्हें लोग महसूस करते थे। उनमें से ज्यादातर सो नहीं पाते थे। उनमें से अधिकांश को बुरे स्वप्न आते थे, उनमें से अधिकांश में ऐसे कई लक्षण थे। हम इस पर चर्चा करते थे, उन्हें व्यायाम, बातचीत द्वारा फिर से ठीक करने और फिर वापस आने में मदद करते थे।

बाहर आते समय एक दिन, एक बूढ़ा कश्मीरी आदमी, एक छोटा…

Read More
अखंड भारत क्या आप जानते हैं? प्राचीन इतिहास भाषण के अंश

भारत का नाम इंडिया कैसे पड़ा?

post-image

‘इंडिया’ शब्द की उत्पत्ति कैसे हुई? शायद यह आपको ज्ञात हो| सबसे पहले ‘सिंधु’ शब्द से ‘हिंदू’ बना। फिर जैसे स्पेनिश में ‘ह’ अक्षर उच्चारण में गौण हो जाता है उसी प्रकार ‘ह’ का उच्चारण लुप्त होकर ‘इंदु’ बना। जब मैं बार्सिलोना में था, मैंने एक रेस्तरां का नाम ‘लो कॉमिडा हिंदू’ पाया। पर इसका उच्चारण वे ‘ह’ को गौण रखकर ‘इंदु’ ही कर रहे थे|  आप हजारों साल पहले भी इस प्रकार का संदर्भ प्राप्त हो सकता है| अलग अलग देश इसे ‘इंड’, ‘इंडिका’, ‘इंडिया’ इत्यादि जैसे नामों से पुकारते हैं|

Read More
प्राचीन इतिहास प्राचीन भारतीय शिक्षा भारत की चर्चा

भारतीय गुरुकुल शिक्षा प्रणाली — मेहुलभाई आचार्य का व्याख्यान

post-image

भारतीय परंपरा में मनुष्य जीवन के सबसे महत्वपूर्ण मूल्यों में से शिक्षा को सबसे उच्च का स्थान दिया गया है| पुरातन काल से भारतवर्ष समस्त विश्व के लिए ज्ञान का स्रोत रहा है और भारत के ज्ञान का सर्वप्रथम स्रोत हैं हमारे वेद| एक सुसंस्कृत व्यष्टि को समष्टि की नींव मानते हुए एक सुदृढ़ तथा विकसित समाज के निर्माण हेतु शिक्षा की अभूतपूर्व परिकल्पना भारत के ऋषियों, मनीषियों एवं गुरुओं ने ही की थी| इसी चिंतन ने जन्म दिया भारतीय गुरुकुल शिक्षा प्रणाली को|

क्या थी गुरुकुल शिक्षा प्रणाली? कितनी प्रकार की पद्धतियाँ होती थीं इस प्रणाली में? कहाँ से आरम्भ होती थी शिक्षा? क्या शिक्षा केवल विषय-ज्ञान तक सीमित थी या इसका कोई अलौकिक अभिप्राय भी था? जानिए श्री मेहुल आचार्य के व्याख्यान में|

श्री मेहुल आचार्य जी हमें बताते हैं की मानव व्यक्तित्व के संतुलित व बहुमुखी विकास के लिए तथा विकसित समाज…

Read More
%d bloggers like this: