Home > tatvamasee

धर्मांतरण का एक पक्षीय युद्ध। संक्रान्त सानु | प्रोजेक्ट थेसालोनिका

https://www.youtube.com/watch?time_continue=75&v=LJSY0JScTmE?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 2000 ई। के आंदोलन ने वास्तव में कम से कम प्रोटेस्टेंट समूहों के बीच संघर्ष को कम करने की कोशिश की।उन्होंने कहा कि प्रोटेस्टेंट समूहों को संगठित होना चाहिए, उनके पास एक-दूसरे के बजाय लक्ष्य थे, हमें चाहिए कि हम उन लोगों को निशाना बनाएं, हमें उन लोगों को लक्षित

Read More

मालाबार में हिंदुओं के नरसंहार में गांधी की भूमिका। सन्दीप बालकृष्ण

https://www.youtube.com/watch?v=cYR4_uIaWGw?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 मुहम्मद अली जौहर या मुहम्मद अली अपने बड़े भाई शौकत अली जौहर या शौकत अली के साथ द अली ब्रदर्स के नाम से जाने जाते है । अली ब्रदर्स ने सामने से खिलाफत आंदोलन की योजना बनाई, नेतृत्व किया और निष्पादित किया। अब मुहम्मद अली कोई साधारण आदमी नहीं थे

Read More

इंटर कैटेरा पापल बुल एंड खोज का सिद्धांत: कैसे चर्च ने दक्षिण अमेरिका के निर्मम स्पेनिश उपनिवेशवाद को खत्म किया | संक्रान्त सानु

https://www.youtube.com/watch?time_continue=1&v=ZY_uokFzLdM?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 अफ्रीका इस तरह विभाजित हो गया। हम हर एक देश में नहीं जाएंगे, लेकिन इसकी बहुत दिलचस्प कहानी है। पेपरल बुल नाम का एक दस्तावेज 1493 में जारी किया गया है जिसका नाम 'इंटर कैटेरा' है। 'खोज का सिद्धांत' इसके माध्यम से प्रख्यापित किया गया| आप में से कितने लोग

Read More

भारतीय संविधान मौलिक रूप से एक ब्रिटिश रचना क्यों है | अतनु दी | Indian Constitution

https://www.youtube.com/watch?v=cjRqSjUhXb8?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 भारतीय संविधान दुनिया का सबसे बड़ा संविधान है, एक राष्ट्र का लिखित संविधान, सौ पचास हजार शब्द और यह कानूनी रूप से लिखा गया है, यह अंग्रेजी में नहीं लिखा गया है। इसलिए यदि आप इसे पढ़ने की कोशिश कर रहे थे तो आप इसे तब तक नहीं समझ सकते

Read More

मृदोस का कवच: खिलाफत आंदोलन की उत्पत्ति | सन्दीप बालकृष्ण

https://www.youtube.com/watch?time_continue=6&v=_N5vQDhzHS0?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 1918 में, जब विनाशकारी प्रथम विश्व युद्ध समाप्त हो रहा था, सबसे महत्वपूर्ण मील के पत्थर में से एक जो अंत को चिह्नित करता था, वह कुछ ऐसा था जिसे मृदोस के आर्मिस्टिस कहा जाता है।  30 अक्टूबर, 1918 को मुर्मोस के आर्मिस्टिस पर हस्ताक्षर किए गए थे। मुद्रोस वास्तव

Read More

हिंदू धार्मिक प्रथाओं में भारतीय अदालतों का चयनात्मक हस्तक्षेप

https://www.youtube.com/watch?v=NaH_z9FnRtM?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 अभी इसमें बहुत व विभिन्न पहलू हैं।  उनमें से एक यहां काफी मात्रा में न्यायपालिका द्वारा हस्तक्षेप, उन संगठनों द्वारा दायर अभियोग के कारण है, आप जानते हैं, मुक़दमेबाज़ी, जनहित याचिका न्यायालय में संगठनों द्वारा दायर किए गए, जिसमे मुकदमे चलाने के तरीके में कुछ निहित स्वार्थ हैं।  यह विदेशी

Read More

केरला में माप्पिला या मोपला की उत्पत्ति। सन्दीप बालकृष्ण | खिलाफत आंदोलन

https://www.youtube.com/watch?v=2Snuw2VCbUQ?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 तो यह मोपला कौन हैं या मोपला कौन थे? वास्तव में मोपला एक अंग्रेजी अपभ्रंश है अथवा यह मपिला का एक और अंग्रेजी गलत उच्चारण या अङ्ग्रेज़ी के अलग उतचारण है माप्पिला शब्द का जिसका अर्थ है दामाद। मोपला या मपीला की शुरुआत या उत्पत्ति आठवीं या नौवीं शताब्दी में

Read More

प्रोजेक्ट थेसालोनिका और जल्लीकट्टू जैसे लोकप्रिय हिंदू त्योहारों पर इसका प्रभाव

https://www.youtube.com/watch?v=Us0oGA1vxhA&feature=emb_logo थेसालोनिका के अध्यादेश, मेरा मतलब है, एक रोमन सम्राट ने धर्म और पशु बलि पर पूजा करने की सभी मूर्तिपूजक के प्रथाओं पर प्रतिबंध लगा दिया था।  लोगों का कहना है की 400 ईस्वी में एक निश्चित समय पर ओलंपिक भी रोक दिए गए थे।  कोई नहीं बताता कि उन्हें

Read More

रक्षा, सांप्रदायिक सद्भाव और शासन के लिए कौटिल्य की रूपरेखा

https://www.youtube.com/watch?v=OvCm9JO5Hw4?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 यदि आप रक्षा क्ष्यमता देखेंगे, उदाहरणतः, कौटिल्य ने बंदरगाहों का निर्माण का सुझाव दिया, उनके पास एक बड़ी सेना भी थी, उंहोने कूटनीतिक पहल की और खुफ़िया जानकारी जुटाने और विश्लेषण इकाइयों की स्थापना की।  उदाहरण के लिए यहाँ चार प्रकार की लड़ाकू इकाइयों के अतिरिक्त एक बलशाली सेना तैयार

Read More

खलीफत आंदोलन और महात्मा गाँधी – शंकर शरण का व्याख्यान

खलीफत आंदोलन (1919-21) भारत में महात्मा गाँधी का पहला और सब से बड़ा राजनीतिक अभियान था। कांग्रेस नेतृत्व, मुस्लिम राजनीति, हिन्दू-मुस्लिम संबंध और भारत के भविष्य के लिए उस के बड़े गहरे और दूरगामी परिणाम हुए। उस घटना की शताब्दी के अवसर पर उस के सबक पर विचार करना जरूरी

Read More