Home > इंजीलवाद और हिन्दुओं की रक्षा

अतिसंवेदनशील हिन्दुओं और धर्मांतरण

https://www.youtube.com/watch?v=WLTsE2Hzdhs?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 प्रशन  उठता हैं जैसा उन्होंने चीफ जस्टिस की चर्चा की, कि अगर भारत संविधान से चल रहा हैं तो कन्वर्शन का अधिकार हमे दिया हुआ है I हमारे संविधान ने I और इस संविधान में धर्म प्रचार का अधिकार दिया गया था, जिसको बाद में जब नेहरू जी से पुछा

Read More

गोवा के धर्मं न्यायाधिकरण में ‘ऑटो दा फे’ और अन्य यातनाओ के तरीके

https://www.youtube.com/watch?v=A0Kj89dL38g?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1   चार्ल्स देल्लों ने धर्मं न्यायाधिकरण के महल को वर्णित करते हुए लिखा हैं, कि वह एक भयानक, भव्य, भवन था जिसमे २०० बंदीगृह हुआ करते थे, जो अंधकारमय और बिना किसि खिडकिओं के हुआ करता था I देल्लों के अनुसार उन दो जिज्ञासुओं के रहने के शिविर और उनका चैपल

Read More

गोवा में धर्म न्यायाधिकरण – उसका आकार, उद्देश्य और कार्य पद्धति

https://www.youtube.com/watch?v=d2iYryABHbA?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1   गोवा में धर्म न्यायाधिकरण का गठन कैसे हुआ ? इस न्यायालाल के दो जिज्ञासु थे जो केवल पुर्तुगल के सम्राट को उत्तरदायी थे I उनकी नियुक्ति पुर्तुगल के सम्राट ही किया करते थे I वे गोवा के मुख्य पादरी को भी उत्तरदायी नहीं हुआ करते थे I वे गोवा के

Read More

पुर्तुगाली शाषण काल में हिन्दुओं के साथ हुए धार्मिक अत्याचार

https://www.youtube.com/watch?v=xPxUV5lEtxw?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1   फिर १६२० में, वाइसराय ने आदेशपत्र निकाला कि कोई भी हिन्दू पुर्तुगाली क्षत्र में ववाह नहीं कर सकतें I हिन्दुओं को जबरन नदी कि उस पार आदिल शाह के क्षेत्र में जाना पड़ता था विवाह हेतु I वे अपने बंधू-बांधवों का मृतसंस्कार भी नहीं कर सकतें थे I उन्हें नदी

Read More

पुर्तुगाली उपनिवेशवादियों द्वारा हिन्दुओं को इसाई धर्म में परिवर्तित करने के लिए अपनाई गयी नीतियाँ

https://www.youtube.com/watch?v=D8mrMoxzDKw?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1   पुर्तुगाली उपनिवेशवादियों की दो प्रकार की नीतियां थी I एक नीति थी, कि हिन्दुओं का जीवन इतना संकटमय बना दो कि हिन्दू बने रहना बहुत बड़ा बोझ बन जाये, और यदि इसाई धर्म को अपनाया तब उनको हर प्रकार का प्रलोभन मिलता था जैसे, आर्थिक प्रलोभन, सामजिक प्रलोभन, इत्यादि I

Read More