Home > राजनीति व सामाजिक विज्ञान

यूरोप में 1500 ई. तक राष्ट्र राज्यों की अनुपस्थिति

https://www.youtube.com/watch?v=6-PC0g2BfyY&t=19s?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 यह भारत के विशाल भौगोलिक क्षेत्र पर लगभग 475 ई. के आसपास का गुप्त साम्राज्य का एक नक्शा है। अगर आप देखें तो यहाँ ‘भारत’ एक बड़े साम्राज्य के रूप में परिभाषित है,  हालांकि बीच में कुछ राज्य भी हैं। 475 ई. के यूरोप के मानचित्र को देखें। पश्चिमी यूरोप

Read More

ब्रिटिश आक्रमणकारियों ने भारत को कैसे लूट लिया – विल ड्यूरेंट का ‘द केस फॉर इंडिया’

https://www.youtube.com/watch?v=d9xHoMorfzs?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1   हम यह जानना चाहते हैं कि भारत में गरीबी का क्या कारण है? मैं 2 कार्यों को इंगित करना चाहूंगा, यह एंगस मैडिसन है जो नीदरलैंड्स में एक ऐतिहासिक अर्थशास्त्री है। उन्होंने वर्तमान युग के मोड़ से दुनिया की अर्थव्यवस्थाओं का अध्ययन किया 2003 तक एक तरह से, वह दिखाता

Read More

अर्थनैतिक दक्षिणपंथियों के क्रियाकर्म किस प्रकार से राष्ट्रविरोधी हैं?

https://www.youtube.com/watch?v=ruB7DY2exhA?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1   अब दूसरी बात यह है की अर्थनैतिक रूप से दक्षिणपंथी लोग भी राष्ट्रविरोधी है। मैं मानता हूँ कि उदारवादी अर्थशास्त्र सतत विकास का विरोधी है। मुझे लगता है कि अयन रैंड जिन चीज़ों के बारे में बात करते है वह बिलकुल बकवास है; पर दक्षिणपंथा गरीब-विरोधी है ऐसा लगने लगा

Read More

राष्ट्र की भूमिकाएं क्या हैं और राष्ट्र को अपने नागरिकों को पूर्ण स्वतंत्रता क्यों नहीं देनी चाहिए

https://www.youtube.com/watch?v=t01QNlsf4rA?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1   हम यह मानते है कि स्वतंत्रता, आज़ादी और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पूर्ण रूप से महत्वपूर्ण है। हम यह भी कहते हैं कि पूर्ण स्वतंत्रता और पूर्ण आज़ादी अराजकता के सिवा और कुछ नहीं है | अगर सभी को इजाजत दी जाती है के वह अपनी अपनी इच्छा के अनुसार कुछ

Read More

एक सच्ची, शुद्ध और अच्छी जाति व्यवस्था कभी थी ही नहीं

https://www.youtube.com/watch?v=bYkcqwKvxU0?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1   दक्षिणपंथी विचारों में एक और समस्या यह भी है की यदि यहाँ आप एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा करते ही नहीं हैं, वह विषय है जातिप्रथा | दक्षिणपंथी मंडलियों में जाति की चर्चा सिर्फ इस बारे में होती रहती है की वैदिक काल में जाति का मतलब क्या

Read More

सावरकर मानते थे कि एक राष्ट्र का उदय एक आधुनिक औद्योगिक समाज में ही संभव है

https://www.youtube.com/watch?v=79YwxJ0Y9R8?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1   अभी मैं जिस विषय पे चर्चा करूँगा वह है,दक्षिणपंथियों में एक बड़ा दोष यहहै कि हम कहां से आयेवहभूल गए हैं | सावरकर की सोच, जो मेरे हिसाब से दक्षिणपंथियों में एक व्यवस्थित राजनीतिक विचार है, उसका उद्देश्य किसी ग्रामीणयूटोपिया का संरचना करना नहीं है। यह एक कृषिमूलक यूटोपिया के

Read More

भारत में वामपंथी और दक्षिणपंथियो का विकास

https://www.youtube.com/watch?v=CyIBOkWYJr0?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 जब ब्रिटिश आए, उन्होंने कुछ शुरू किया था। उन्होंने भारत का व्यवस्थित रूप से अध्ययन करना शुरू किया | उन्होंने भारत का एक व्यवस्थित अध्ययन शुरू किया था, जिसे हम सभी भारततत्त्व या इंडोलोजी के रूप से जानते हैं। और अंग्रेजों ने अपने स्वयं के दृष्टिकोण से, अपने तरीके से,

Read More

आखिर ‘रुढ़िवादी’ शब्द का तात्पर्य क्या है?

https://www.youtube.com/watch?v=5mDQokkMVW0?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 जब हम खुद को रूढ़िवादी कहते हैं तो वास्तव में उसका क्या तात्पर्य है? मेरा मानना है की हम इससे चार चीज़ें दर्शाते है | सबसे पहले कि हम तथ्यों और आंकड़ों के आधार पर हमारे विचारों को खड़ा करते है। हम किसीकाल्पनिक दुनिया में रहने वाले उदारवादी नहीं हैं, हम

Read More