Home > श्रुति और स्मृति ग्रन्थ

भगवान् शंकराचार्य की उपलब्धियां

https://www.youtube.com/watch?v=T-pBRf9GU1g?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 छोटी सी आयु थी उनकी, जब घर छोड़ा था आठ वर्ष के थे वो I संन्यास के लिए निकले जब I नौ वर्ष की आयु में उन्होंने संन्यास लिया और उसके बाद में, भगवान् शंकराचार्य ने, वोह काम करके दिखाया, जो आज सोचा भी नहीं जा सकता हैं I भगवान्

Read More

हिन्दू धरम में ऋतूस्राव के देवता कौन हैं ?

अब ऐसी पद्धाथियाँ एक सकारात्मक बोध कराती हैं और उसपर यह कि हिन्दू मानतें हैं कि उनकी देवी भी रजस्वला होती हैं और उत्सव मनाएं जातें हैं उनके सम्मान में I एक त्यौहार हैं कामाख्या, आसाम का प्रसिद्द उत्सव I तो यह कामाख्या का उत्सव, शायद उसे अम्बुबाची कहतें हैं,

Read More

त्रिदोष की धारणा – आयुर्वेदिक औचित्य और तत्व ऋतुस्राव की पद्धति में

वस्तुतः जो ऋतुस्राव की क्रिया का अनुभव करतें हैं वोह शायद भूल गएँ हैं कि ऋतुस्राव की क्रिया में एक आयुर्वेदिक औचित्य, आयुर्वेदिक तत्व भी हैं जिसके बारें में वेदों, धर्मशास्त्रों में बताया गया हैं I आयुर्वेद ऋतुस्राव को एक दैहिक प्रक्रिया मानता हैं जो त्रिदोषों के अधीन हैं I

Read More

हिन्दू धर्म के अनुसार मानव व्यक्तित्व की पांच क्यारियाँ

आजकल, लगभद हमारे सारी, हमारा सारा ज्ञान आधुनिक विज्ञान के माध्यम से ही आता हैं I हम कहतें तो हैं कि हमारा विशेष प्राकृतिक शारीर हैं लेकिन अपने मन का एक स्वाधीन अस्तित्व होने को नकारतें है I वे कहतें हैं कि दिमागी गतिविधि ही सोचने-समझाने की शक्ति हैं, हिन्दू

Read More

वर्ण, वेद व आधुनिक समाज — मोहित भारद्वाज द्वारा एक व्याख्यान

क्या हम स्वतंत्र हैं या पाश्चात्य संस्कृति से प्रभावित विश्व में जकड़ें हुए हैं ? क्या हमनें पूर्वजों की शिक्षा, भाषा और नैतिक मूल्यों को भुला दिया हैं? हम अपनी जड़ों से भटक गए हैं । हमें वापस लौटना हैं और 'वैदिक भारत' को पुनर्जीवित करना हैं। इस व्याख्यान में आपको

Read More

‘संस्कृतम् : आत्मा की भाषा’ — सम्पदानंदा मिश्रा द्वारा एक भाषण

https://www.youtube.com/watch?v=40uaJAGj3bc&t=1049s ओ३म् जीवने यावदा दानम् , स्यात् प्रदानं ततोधिकम् इत्येषा प्रार्थनास्माकं भगवन् परिपूर्यताम् , भगवन् परिपूर्यताम् त्वमेव माता च पिता त्वमेव , त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव , त्वमेव सर्वं मम देव देव सर्वे भवन्तु सुखिनः , सर्वे सन्तु निरामयाः सर्वे भद्राणि पश्यन्तु , मा कश्चिद् दुःखभाग्भवेत् ओं शान्तिश्शान्तिश्शान्तिः सर्वेभ्यो नमो नमः   आप सबको नमस्कार मुझे ये बोला

Read More

सिन्धुघाटी सभ्यता और विष्णु भगवान्

Source: - Subhash Kak / Twitter. महाभारत में विष्णु के वराह अवतार को एकशृङ्ग कहा गया है। क्या इसीका चित्रण सिन्धु-सरस्वती काल के एकशृङ्गीय कृत्रिम पशु से किया गया है? pic.twitter.com/GJzRFOtTus — Subhash Kak (@subhashkak1) November 7, 2017  

Read More

प्रारंभिक कलारूपों में रामायण का चित्रण

https://www.youtube.com/watch?v=mK01SiZTmN0&t=1s?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 तो, अब हमें बहुत जल्दी कला पर चित्रित रामायण के दृश्य मिलते हैं। रामायण की पहली कला चित्रण दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व का एक टेराकोटा है। यह दिखाता है कि रावण ने सीता को ले जाने और सीता को अपने गहने फेंकने के लिए दिखाया है, उम्मीद करते हुए कि

Read More

रामायण पर प्रख्यात हस्तियों की राय

https://www.youtube.com/watch?v=KN7x5VidkIs&t=15s?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 अब, भारतीय सभ्यता में रामायण के महत्व को कई धार्मिक नेताओं, जन विचारकों द्वारा उम्र के आधार पर, और रामायण क्या है पर जोर दिया गया है? यह नैतिकता का एक मैनुअल है; यह सही आचरण और सही मूल्यों में लोगों को निर्देश देना है यह एक राष्ट्रीय कोड है

Read More