हिन्दू धर्म के अनुसार मानव व्यक्तित्व की पांच क्यारियाँ

आजकल, लगभद हमारे सारी, हमारा सारा ज्ञान आधुनिक विज्ञान के माध्यम से ही आता हैं I हम कहतें तो हैं कि हमारा विशेष प्राकृतिक शारीर हैं लेकिन अपने मन का एक स्वाधीन अस्तित्व होने को नकारतें है I वे कहतें हैं कि दिमागी गतिविधि ही सोचने-समझाने की शक्ति हैं, हिन्दू

Read More

‘संस्कृतम् : आत्मा की भाषा’ — सम्पदानंदा मिश्रा द्वारा एक भाषण

https://www.youtube.com/watch?v=40uaJAGj3bc&t=1049s ओ३म् जीवने यावदा दानम् , स्यात् प्रदानं ततोधिकम् इत्येषा प्रार्थनास्माकं भगवन् परिपूर्यताम् , भगवन् परिपूर्यताम् त्वमेव माता च पिता त्वमेव , त्वमेव बन्धुश्च सखा त्वमेव त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव , त्वमेव सर्वं मम देव देव सर्वे भवन्तु सुखिनः , सर्वे सन्तु निरामयाः सर्वे भद्राणि पश्यन्तु , मा कश्चिद् दुःखभाग्भवेत् ओं शान्तिश्शान्तिश्शान्तिः सर्वेभ्यो नमो नमः   आप सबको नमस्कार मुझे ये बोला

Read More