Home > हिंदू धर्म और महिलाओं

हिन्दू धरम में ऋतूस्राव के देवता कौन हैं ?

अब ऐसी पद्धाथियाँ एक सकारात्मक बोध कराती हैं और उसपर यह कि हिन्दू मानतें हैं कि उनकी देवी भी रजस्वला होती हैं और उत्सव मनाएं जातें हैं उनके सम्मान में I एक त्यौहार हैं कामाख्या, आसाम का प्रसिद्द उत्सव I तो यह कामाख्या का उत्सव, शायद उसे अम्बुबाची कहतें हैं,

Read More

रजस्वला परिचर्या – आयुर्वेद के अनुसार ऋतुस्राव के समय क्या करना चाहिए और क्या नहीं

आयुर्वेद कई नुस्खे देता हैं कि ऋतुस्राव के समय क्या करना चाहिए और क्या नहीं जिसे रजस्वला परिचर्या I परिचर्या अर्थात् जीवन शैली I रजस्वला स्त्री को उन तीन दिनों में किस प्रकार की जीवन शैली अपनानी चाहिए ? चरका संहिता इसका सार देती हैं और कहती हैं कि, ऋतुस्राव के

Read More

त्रिदोष की धारणा – आयुर्वेदिक औचित्य और तत्व ऋतुस्राव की पद्धति में

वस्तुतः जो ऋतुस्राव की क्रिया का अनुभव करतें हैं वोह शायद भूल गएँ हैं कि ऋतुस्राव की क्रिया में एक आयुर्वेदिक औचित्य, आयुर्वेदिक तत्व भी हैं जिसके बारें में वेदों, धर्मशास्त्रों में बताया गया हैं I आयुर्वेद ऋतुस्राव को एक दैहिक प्रक्रिया मानता हैं जो त्रिदोषों के अधीन हैं I

Read More

शौच्य क्या हैं और वह इतना मत्वपूर्ण क्यों हैं

प्राण के स्तर पर पांच प्रकार के प्राण होतें हैं – प्राण, अपाना, व्याना, उदान, समना I आप आगे देखेंगे, आपको इन सबका वृत्तान्त ऑनलाइन मिल जाएगा योगिक मूल्ग्रंथों में इयातादी में I तो इन पाँचों में संतुलन, उन सबकी विशेष सक्रियता होती हैं, विशेष योगदान होता हैं हमारे शरीर

Read More

हिन्दू धर्म के अनुसार मानव व्यक्तित्व की पांच क्यारियाँ

आजकल, लगभद हमारे सारी, हमारा सारा ज्ञान आधुनिक विज्ञान के माध्यम से ही आता हैं I हम कहतें तो हैं कि हमारा विशेष प्राकृतिक शारीर हैं लेकिन अपने मन का एक स्वाधीन अस्तित्व होने को नकारतें है I वे कहतें हैं कि दिमागी गतिविधि ही सोचने-समझाने की शक्ति हैं, हिन्दू

Read More

जन्म का महात्म्य और हिन्दू धर्मं में गर्भपात को ब्रह्म्हाया क्यों माना गया हैं ?

https://www.youtube.com/watch?v=dO434gqkEt0?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 जन्म इतना महतवपूर्ण क्यों हैं? हमारे हिन्दू सम्प्रदाय में जन्म देना एक पवित्र बात मानी गयी हैं, बहुत बड़े पुण्य की बात, एक धार्मिक क्रिया जिसका पुण्य बहुत महान हैं, क्यों ? क्योकि जन्म देना सिर्फ बच्चे पैदा करना नहीं हैं, जो आजकल की भाषा में माना गया हैं I

Read More

ऋतुस्राव आत्मा शुद्धिकरण की प्रक्रिया है

https://www.youtube.com/watch?v=7S90QCZUKbE?cc_lang_pref=hi&cc_load_policy=1 अशौच्य की धारणा ऋतुस्राव से सम्बंधित हैं I तीसरा, पर वोह यहीं पर, कहानी यहाँ पर समाप्त नहीं होती; नहीं ! नहीं ! नारी अब जीवन्तता का रंग बन गयी हैं, दोष से संलघ्न हो गयी हैं, नहीं, बात वही तक सीमित नहीं रहती I कहा गया हैं, ऋतुस्राव की

Read More